सपने 


सपने तो बस सपने होते हैं
सपने कभी मरते नहीं
खुली आँखों के सपने और नींद के सपने
खिड़की से चाँद तक छलांगों के सपने
मुट्ठी में बादलों को खींचने के सपने.
सपनों का क़ानून नहीं, सपनों का दारोगा नहीं
सपनों की नैया नहीं, सपनों का साहिल नहीं
सपनों की सरहद नही, सपनों का वीज़ा भी नही.
सपने उम्मीदों की आंच में पिघल कर साँचों में ढलते हैं
सपने नया रूप धरते हैं, नए लिबास पहनते हैं
सपने तो बस सपने होते हैं
सपने कभी मरते नहीं।

Comments

Popular posts from this blog

Jagjit Singh जगजीत सिंह

लोकनायक जय प्रकाश नारायण