Posts

Showing posts from 2016
सपने 
सपने तो बस सपने होते हैं
सपने कभी मरते नहीं खुली आँखों के सपने और नींद के सपने
खिड़की से चाँद तक छलांगों के सपने
मुट्ठी में बादलों को खींचने के सपने. सपनों का क़ानून नहीं, सपनों का दारोगा नहीं
सपनों की नैया नहीं, सपनों का साहिल नहीं
सपनों की सरहद नही, सपनों का वीज़ा भी नही. सपने उम्मीदों की आंच में पिघल कर साँचों में ढलते हैं
सपने नया रूप धरते हैं, नए लिबास पहनते हैं
सपने तो बस सपने होते हैं
सपने कभी मरते नहीं।